In the world of astrology, K.P.SYSTEM is the best of all! You should test it by posting us your birth data as for an experiment. Our e-mail addresses are right in this way- shashibhushantamare@rocketmail.com [2] sbtamre@gmail.com Advertisingdata recovery

Wednesday, April 15, 2009

कुंडली मिलान का परिणाम

मैं पिछले २५ वर्ष से ज्योतिष की सेवा में लगा हूँ /हजारो कुंडली ऐय्सी देखि होगी जो शादी से पहले पुरे नियम कायदे से मिलान कर के शादी की गई थी परन्तु लड़का लड़की शादी के बाद अलग हो गए जब की २० से ३६ गुन दोनों में मिलते थे / फ़िर एसा क्या हूवा की शादी टूट गयी जब की गुन पुरे मिले थे /असल कहानी पर्दे के पीछे कुछ और ही होती है /यदि मेरी और प्रशिध हिरोईन हेमा मालिनी दोनों के नाम या कुंडलिनी का मिलान किया जाए तो २० से ३६ गुन जरुर मिल जाए गे लेकिन इसका मतलब यह तो नही की मेरी और हेमा जी की शादी में अन्य असमानता मायने नही रखती / दरसल कहना यह है की गुन के बिनाह पर शादी ग़लत है / एक सफल शादी के लिए क्रिशन मूर्ति पद्धति से सभी बातो पर ध्यान देना जरुरी है /जैसे संतान धन शरीर आयु और मिजाज एक जैसे हो तो शादी सफल रहती है /परन्तु इन बातो को कुंडली से सफलता पुर्बक पढ़ पाना पराशर पद्धति के बस में नही केवल क्रिसन मूर्ति पद्धति द्वारा संभव है / जब शादी के बाद कुंडली देख कर ज्योतिष यह बता सकता है की दोनों पति पत्नी सुखी नही है तो उसी कुंडली से शादी क्यो रची गयी /तब क्या कुंडली दूसरी थी /नही सच तो यह है की पद्धति ग़लत थी / पराशर पद्धति विशुद्ध दोषों से भरी है / सभी अपनी अपनी कल्पना बयान करते है जैसे लग्न में गुरु है तो आदमी राजा होगा जबकि आदमी भीख मांगता घूम रहा था / इससे बड़ा मजाक और क्या होगा /जब की क्रिसन मूर्ति पध्दती इतनी ज्यादा शक्तिशाली है की ग्लास पर बेठी मख्खी कब उडे गी यह भी बता सकती है /खैर मतलब यह है की सार रूप से कुंडली क्या बोलती है यह समझ कर ही शादी करनी चाहिए /थेंक्स /

2 comments:

  1. my sulesh kumar saini 1jan 1888

    on
    urmila 1july 1992

    ReplyDelete